Uncategorized

नीतीश कुमार ने बिहार सरकार बनाने के बाद ही BJP को दिया 440 वॉल्ट का झटका, सब रह गये सन्न!

Written by admin

बिहार में JDU बीजेपी के समर्थन से भले ही सरकार बना ली हो लेकिन JDU को झटका देने में नीतीश की पार्टी पीछे नही रह रही. बीजेपी ने सोचा लालू से नीतीश को अलग करवाकर बिहार में सरकार बनाने का मौका मिल जायेगा और होने वाले उपराष्ट्रपति चुनाव में वोट भी. आपको बता दें कि NDA की तरफ से उपराष्ट्रपति पद के लिए भाजपा के वरिष्ठ नेता वैंकेया नायडू खड़े हुए है और बीजेपी चाहती है कि जैसे राष्ट्रपति चुनाव में रामनाथ कोविंद को बहुमत से जितवाया वैसे ही उपराष्ट्रपति चुनाव में भी उसे वैसी ही जीत मिले.

हालाँकि अभी ये कहना की जीत किसकी होगी कठिन है लेकिन बीजेपी ने जिस मंशा से JDU को समर्थन देकर बिहार में सरकार साँझा किया है, उस मंशा को उस वक्त झटका लगा जब नीतीश की पार्टी ने ये साफ कर दिया कि बीजेपी से हाथ मिलाने से पहले जिस उम्मीदवार को समर्थन देने का विचार हुआ था, अब भी उसी उम्मीदवार को वोट दिया जायेगा.

आपको बता दें कि जब नीतीश ने महागठबंधन से रिश्ता तोड़ा था तो माना जा रहा था कि अब बीजेपी को इसका फायदा उपराष्ट्रपति चुनाव में भी मिलेगा लेकिन नीतीश कुमार की पार्टी ने साफ कर दिया कि उपराष्ट्रपति चुनाव में उनका समर्थन विपक्ष के उम्मीदवार गोपालकृष्ण गांधी को ही होगा.

31 जुलाई को मीडिया से बातचीत करते हुए बिहार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साफ कर दिया कि उनकी पार्टी 5 अगस्त को होने वाले उपराष्ट्रपति पद के लिए चुनाव में अपना मत नही बदलेगी और पहले के ही तरह विपक्ष के प्रत्याशी को ही समर्थन करेगी.

वहीँ JDU के दिग्गज नेता के.सी. त्यागी ने इसके पहले ही साफ कर दिया था कि ‘हमारी पार्टी ने बीजेपी से हाथ मिलाने से पहले ही विपक्ष के उम्मीदवार गोलपालकृष्ण गांधी को समर्थन देने का मन बना लिया था और इसलिए हम इस वादे को पूरा करेंगे.


अब उसके सपनों को झटका लगा है और उसकी उम्मीदों पर पानी फिर गया है.

Loading...

About the author

admin

Leave a Comment