Uncategorized

EVM की जांच से पीछे भागा चुनाव आयोग, कहा- मदरबोर्ड को हाथ मत लगाना

Written by admin

नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने आम आदमी पार्टी की उस मांग को ठुकरा दिया है जिसमें पार्टी ने इलैक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन को हैक करने या उससे छेड़छाड़ की चुनौती के दौरान मदरबोर्ड से भी छेड़छाड़ की इजाजत मांगी थी। आयोग ने कहा है कि मशीन के मदरबोर्ड या इंटरनल पार्ट्स को बदलना अपने आप में पूरे उपकरण को ही बदलने जैसा है। चुनाव आयोग के पैनल ने कहा कि ईवीएम अपनी मौलिकता खो देगा यदि इसके इंटरनल सर्किट में बदलाव किए जाएंगे।

 

आम आदमी पार्टी ने बुधवार को चुनाव आयोग से ईवीएम को हैक करने की चुनौती को लेकर कहा कि इसके लिए कोई निर्धारित दिशा निर्देश नहीं हैं। क्योंकि मशीन को हैक करने योजना बना रहा व्यक्ति पोल पैनल द्वारा निर्धारित नियमों से नहीं करेगा।

दरअसल आम आदमी पार्टी ने 24 मई को चुनाव आयोग को खत लिखकर आयोग से ईवीएम हैकिंग के लिए शर्तों और नियमों पर पुनर्विचार की गुजारिश की थी। आम आदमी पार्टी ने चुनाव आयोग से ईवीएम चैलेंज को ‘ओपन हैकॉथन’ में बदलने को कहा था जहां किसी भी तरह की टैंपरिंग को करने की इजाजत हो। पार्टी ने आयोग को लिखे खत में एमएलए सौरभ भारद्वाज द्वारा दिल्ली विधानसभा में ईवीएम जैसी मशीन के साथ टैंपरिंग करके दिखाए जाने का जिक्र करते हुए कहा था कि ईवीएम के साथ छेड़छाड़ संभव है। आयोग ने आम आदमी पार्टी के उसी खत का जवाब दिया है।

आयोग ने कहा, ‘हमारी प्रशासनिक व्यवस्था और कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के अंतर्गत इस तरह की चीजें (मशीन के मदरबोर्ड या इंटरनल सर्किट बदले जाने की तरफ इशारा) मुमकिन ही नहीं हैं, इसलिए हमने ईवीएम चैलेंज के दौरान इसकी इजाजत नहीं दी है।’

Loading...

About the author

admin

Leave a Comment