Uncategorized

मुस्लिम छात्राओं ने शिवलिंग बनाने से मना किया तो उन्हें किया गया ऐसे प्रताड़ित

भोपाल के एक सरकारी स्कूल में मुस्लिम छात्राओं को शिवलिंग न बनाने की वजह से प्रताड़ित किया गया। छात्राओं का आरोप है कि उन्हें वर्कशॉप में शिवलिंग बनाने के लिए कहा गया था, जिसका उन्होंने विरोध किया तो उन्हें एक अलग क्लास रूम में बंद कर दिया गया।यह मामला भोपाल के कमला नेहरू गर्ल्स हायर सैकेंडरी स्कूल का है। यह स्कूल भोपाल के टीटी नगर में है। स्कूल में वर्कशॉप का आयोजन किया गया। इसमें वहां पढ़ने वाली सभी छात्राओं से मिट्टी की शिवलिंग बनाने के लिए कहा गया। स्कूल की प्रिंसिपल ने स्टूडेंट्स से कहा कि अगर वह एग्जाम में अच्छे नंबर चाहती हैं तो इस वर्कशॉप में हिस्सा लें। जिसका करीब 100 मुस्लिम छात्राओं ने विरोध किया।

मुस्लिम छात्राओं का आरोप है कि जब उन्होंने इसके खिलाफ विरोध किया तो स्कूल के अधिकारियों ने उन्हें अलग क्लास रूम में बंद कर दिया। जब लड़कियों ने आगे विरोध किया तो उन्हें घर जाने के लिए कहा गया।

बता दें कि स्कूल में वर्कशॉप का आयोजन कुछ अधिकारियों की उपस्थिति में हुआ था। इसके बावजूद इस तरह की धार्मिक गतिविधि को परिसर में रोकने के लिए कोई कोशिश नहीं की गई। आपको बता दे कि, हमारे देश के संविधान में यह प्रावधान है कि, सभी धर्म के मानने वाले अपने हिसाब से पूजा या इबादत कर सकते हैं और इसमें कोई भी किसी भी दुसरे धर्म वाले उनको बाध्य नहीं कर सकते हैं।

लेकिन उसके बावजूद अक्सर यह देखने को मिलता है कि, कुछ लोग दूसरों पर जबरदस्ती अपना धर्म थोपना चाहते हैं। इसके अलावा सोशल मीडिया में ऐसे कई वीडियोज भी सामने आ चुके हैं जिसमें कुछ लोगों ने किसी विशेष धर्म से आने वाले व्यक्ति को जबरदस्ती अपने धर्म के नारे लगवाये थे।

Loading...

About the author

Nazia

Leave a Comment