National News Political Video

वीडियो- BJP से हाथ मिलाने के बाद नीतीश का ये मंत्री हुआ बेलगाम, मीडिया वालों को बोल दिया पाकिस्तानी…

Written by Alina Sheikh

नीतीश कुमार भले ही बिहार में लालू का साथ छोड़कर बीजेपी से हाथ मिलाकर सरकार में मजे ले रहे हों लेकिन उनकी ये राह आसान नजर नही आ रही है. दरअसल उनके ही वरिष्ठ नेता शरद यादव अनवर अली कुछ नाराज चल रहे हैं और कयास तो ये भी लगाये जा रहे हैं कि वो नीतीश से अलग हो सकते हैं. इतना ही नही नीतीश की मुश्किलें यही नही ख़त्म होती, उनके एक मंत्री ने उनकी मुश्किलें तब और बढ़ा दी जब भरी सभा में उन्होंने मीडियाकर्मियों को पाकिस्तानी समर्थक करके संबोधित किया.जिसके बाद मामला मीडिया में छा चुका है और नीतीश सरकार पर सवाल उठ रहे हैं.

बीजेपी का तो यही काम ही है कि देश में हर वक्त राष्ट्रवाद और देशप्रेम का सर्टिफिकेट मांगते रहना लेकिन कभी उनके खिलाफ बोलने वाले नीतीश कुमार अब बीजेपी के रंग में रंगते नजर आ रहे हैं. दरअसल बिहार की नीतीश सरकार में मंत्री विनोद कुमार सिंह मंगलवार को उस वक्त चर्चा में आ गये जब वो मंत्रियों के सम्मान में आयोजित संकल्प समारोह में मीडियाकर्मियों को पाकिस्तान समर्थक बोल दिया. मामला कुछ यूँ था कि वो भारत माता की जय का उद्घोष लगवा रहे थे लेकिन अपने कामों में व्यस्त मीडियाकर्मी उनकी इस बात पर जवाब नही दे पाए जिसके बाद मंत्री जी को बुरा लग गया और उन्हें पाकिस्तानी कह दिया. मामला मीडिया में छाया तो नीतीश सरकार की किरकिरी होने लगी.

वीडियो

वैसे आपको बता दें कि नीतीश कुमार की बस इतनी सी ही परेशानी नही है इसके अलावा गुजरात चुनाव को लेकर भी उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. दरअसल गुजरात में हुए राज्यसभा की 3 सीटों के चुनाव में 2 सीट भाजपा और 1 कांग्रेस के खाते में गईं. इस चुनाव में दिलचस्प बात ये रही कि ये चुनाव था तो गुजरात में लेकिन इसकी सरगर्मी बिहार में देखने को मिली. दरअसल बिहार में जिस तरीके से नीतीश ने लालू प्रसाद यादव का साथ छोड़कर बीजेपी से गठबंधन कर सरकार बना ली. जिसके बाद नीतीश कुमार की काफी फजीहत हो रही है. इतना ही नही नीतीश की ही पार्टी के बड़े नेता शरद यादव भी नीतीश कुमार से नाराज नजर आ रहे हैं.

बीच में तो खबर ऐसी भी थी कि शरद यादव JDU के कुछ नेताओं के साथ मिलकर एक नई पार्टी बना सकते हैं. बाद में शरद यादव से जब पूछा गया तो उन्होंने इस खबर को अफवाह बताया लेकिन अब जिस तरीके से गुजरात में कांग्रेसी राज्यसभा सांसद अहमद पटेल के जीतने पर शरद यादव ने उन्हें फोन करके बधाई दी है उससे बिहार की राजनीति को जोर का झटका लग सकता है.

दरअसल चार बार राज्यसभा सांसद रह चुके सोनिया गाँधी के सलाहकार अहमद पटेल को मोदी और अमित शाह हराना चाहते थे. वे नही चाहते थे कि अहमद पटेल पांचवी बार भी राज्यसभा पहुंचे. इसके लिए बीजेपी ने पैसा और सरकारी मशीनरी का खूब उपयोग किया लेकिन अंजाम ये हुआ कि अहमद पटेल चुनाव जीत गये और अमित शाह की खूब किरकिरी हुई.

जब अहमद पटेल चुनाव जीत गये तो बिहार में भाजपा की सहयोगी पार्टी जदयू के बड़े नेता शरद यादव ने उन्हें फोन करके बधाई दी. उन्होंने अपनी और पटेल के साथ एक फोटो शेयर करते हुए ट्विटर पर लिखा कि ‘मुश्किल घड़ी में जीत के लिए दिल से बधाई. आशा करता हूं कि आपको करियर में हमेशा कामयाबी मिले.’ इतना ही नही इस गुजरात में छोटूभाई वासवा ही जदयू के इकलौते विधायक हैं और चुनाव से पहले पार्टी की राय थी कि वो बीजेपी को समर्थन करेगी लेकिन छोटूभाई वासवा ने पार्टी लाइन से अलग जाकर पटेल के लिए वोट किया.

छोटूभाई वासवा का पटेल को वोट देना और शरद यादव का फोन करके बधाई देना इशारो इशारों में बता रहा है कि जदयू पार्टी के अंदर कुछ अच्छा नही चल रहा है. जिस तरीके से शरद यादव ने अपने तेवर दिखाए हैं उससे माना जा रहा है कि नीतीश कुमार और शरद यादव के बीच दूरियां बढ़ सकती है. ऐसे में एक बार फिर से इस बात की चर्चा होने लगी है कि शरद यादव अलग पार्टी बना सकते हैं.

Loading...

About the author

Alina Sheikh

Leave a Comment