National News Political

लालू से नाता तोड़कर बीजेपी से गले लगने वाले नीतीश कुमार की सरकार में हुआ सबसे बड़ा फर्जीवाड़ा!

Written by Alina Sheikh

नीतीश सरकार खुद को बीजेपी से जोड़कर खुद को कितनी भी साफ सुथरी दिखाए लेकिन अब उसी के राज में एक ऐसे फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ है जो नीतीश के पैरों के नीचे से जमींन खिसका देगा. आपको बता दें कि बिहार में सिल्क सिटी के नाम से मशहूर भागलपुर में एक बड़े फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ है, ये खुलासा करीब 295 करोड़ रुपये का है. जिला प्रशासन के ने इस फर्जीवाड़े को लेकर अलग-अलग दफ्तरों को मिलकर तीन जगह FIR दर्ज कराई है. इन एफआईआर के मुताबिक दो राष्ट्रीयकृत बैंक और एक प्राइवेट NGO की मिलीभगत से ये फर्जीवाड़ा हुआ है. इस योजना में सम्बंधित काम के लिए आने वाली रकम को संबंधित खातों में जमा नही किया गया और इसे सृजन महिला विकास सहयोग समिति लिमिटेड नाम के एक बैंक खाते में जमा करवा दिया गया. अब यहाँ से भी रकम गायब है.

यहाँ हैरानी की बात ये है कि पूरा मामला 2009 से ही चल रहा था. इस मामले के दौरान करीब 10 जिलाधिकारी आये और गये और 2015 में सरकारी ऑडिट भी हुआ इसके बाद भी इस बड़े फर्जीवाड़े का कहीं जिक्र तक नही हुआ और न ही ऑडिट रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ. आपको बता दें कि इस मामले की जाँच के लिए पटना से बुधवार शाम को भागलपुर में आर्थिक अपराध के आईजी जितेंद्र सिंह गंगवार की अगुवाई में पांच सदस्यीय टीम आई और आते ही गहन जांच कर रही है.

वैसे नीतीश कुमार भले ही बिहार में लालू का साथ छोड़कर बीजेपी से हाथ मिलाकर सरकार में मजे ले रहे हों लेकिन उनकी ये राह आसान नजर नही आ रही है. दरअसल उनके ही वरिष्ठ नेता शरद यादव अनवर अली कुछ नाराज चल रहे हैं और कयास तो ये भी लगाये जा रहे हैं कि वो नीतीश से अलग हो सकते हैं. इतना ही नही नीतीश की मुश्किलें यही नही ख़त्म होती, उनके एक मंत्री ने उनकी मुश्किलें तब और बढ़ा दी जब भरी सभा में उन्होंने मीडियाकर्मियों को पाकिस्तानी समर्थक करके संबोधित किया.जिसके बाद मामला मीडिया में छा चुका है और नीतीश सरकार पर सवाल उठ रहे हैं.

बीजेपी का तो यही काम ही है कि देश में हर वक्त राष्ट्रवाद और देशप्रेम का सर्टिफिकेट मांगते रहना लेकिन कभी उनके खिलाफ बोलने वाले नीतीश कुमार अब बीजेपी के रंग में रंगते नजर आ रहे हैं. दरअसल बिहार की नीतीश सरकार में मंत्री विनोद कुमार सिंह मंगलवार को उस वक्त चर्चा में आ गये जब वो मंत्रियों के सम्मान में आयोजित संकल्प समारोह में मीडियाकर्मियों को पाकिस्तान समर्थक बोल दिया.

वीडियो

मामला कुछ यूँ था कि वो भारत माता की जय का उद्घोष लगवा रहे थे लेकिन अपने कामों में व्यस्त मीडियाकर्मी उनकी इस बात पर जवाब नही दे पाए जिसके बाद मंत्री जी को बुरा लग गया और उन्हें पाकिस्तानी कह दिया. मामला मीडिया में छाया तो नीतीश सरकार की किरकिरी होने लगी.

Loading...

About the author

Alina Sheikh

Leave a Comment