National News

खुद को ‘कट्टर हिंदूवादी’ और ‘भाजपा नेता’ बताता है रागिनी को मारने वाला ‘पण्डित’ प्रिंस तिवारी

Written by Kumar

बलिया। यूपी के बलिया में सरेराह 12वीं की छात्रा रागिनी दुबे की चाकू से गोदकर एक सिरफिरे लड़के ने हत्या कर दी। लड़के का नाम पंडित प्रिंस तिवारी है। लेकिन आप इसे सिर्फ एक सिरफिरा लड़का नहीं मान सकते। दरअसल जब आप इस दरिंदे की फेसबुक प्रोफाइल देखेंगे तब समझ पाएंगे कि यह दरिंदा है कौन। इस लड़के के फेसबुक पेज पर देखने से पता चलता है कि यह भाजपा का नेता है। इसके फेसबुक पेज पर स्टेटस अपडेट के नाम पर केवल जय श्रीराम और योगी-योगी लिखा है। उसका पूरा फेसबुक पेज जय-जय श्रीराम के नारों से भरा पड़ा है।

जरा इसकी पोस्ट पढ़िए.. “भगवा वो शेर है जहां से पकड़ता है गोश्त का लोथड़ा फाड़ देता है” क्या यही सबक सीखते हैं ये भगवा वाले? यही सबक सीखकर इस ज़ालिम ने उस बच्ची का कत्ल किया होगा।

एक और पोस्ट देखिये जिसमें इसके पिता ने खुद ही इसको लगाम न देकर शेर बनाने की बात कही है। अब ऐसे में ये आतंकी आतंक न मचाएंगे तो क्या करेंगे? ऐसे ही इन दुष्टों का साहस बढ़ता है और ज़िन्दगी में ऐसा ये गलत कदम उठाते है जिसका खामियाजा दुसरों को ज़िन्दगी भर भुगतना पड़ता है।

ये बच्चा हथियार रखना चाहता है धर्मयुद्द के लिए। लेकिन इस देश में धर्म के नाम पर कट्टरता सिखाता कौन है क्या बचपन से पैदा होते ही लोग कट्टरता सीख जाते हैं.. नहीं। दरअसल ये कट्टरता जहर बोने वाले नेता सिखाते हैं जो इस समय तेजी से बढ़ रहे हैं और सरकारी संरक्षण में फल-फूल रहे हैं।

इसके पिता इसको शेर बोलते हैं क्योंकि लगाम सिर्फ घोड़ों के डाली जाती है और उन लड़कियों के जो ऐसे बिगड़े लड़कों का कहना न माने। इतनी कम उम्र में इस लड़के के अंदर जहर किसने भरा? उसके बाप ने या समाज ने? प्रिंस जैसा है उसे वैसा बनाने के लिए सब जिम्मेदार हैं। कट्टरता सिर्फ इसलिए ही बुरी नहीं क्योंकि वो किसी धर्म के खिलाफ सिर्फ नफरत लाती है बल्कि वो इंसान को हिंसक, स्त्रियों के प्रति असंवेदनशील बनाती है।

ये नेता कट्टरता फैलाकर विकास बराला, प्रिंस तिवारी पैदा कर रहें हैं। आज ये दूसरों की लड़कियों की ज़िंदगी बर्बाद कर रहें हैं। जरा सोचिये अगर आपके यहां लड़कियां है तो कहीं और बन रहे विकास, प्रिंस आपकी बेटियों के लिए खतरनाक हो सकते हैं।

घटना के चार दिन पहले 4 अगस्त को उसने अपने फेस बुक पेज पर लिखा था- हमें जंजीरों में कैद करने का सपना मत देखो, क्योंकि हम वो भगवा शेर हैं, जिसका भी शिकार करते हैं, उसका जिस्म तो क्या रूह भी दम तोड़ देती है..जय जय श्रीराम

घटना से एक दिन पहले 7 अगस्त को प्रिंस ने लिखा… लड़ने से डरे वो वीर नहीं होता, दुश्मन के आगे झुके वो सिर नहीं होता, ये तो 84 लाख जन्मों का पुण्य है, वरना ऐसे ही हिन्दू धर्म में जन्म नहीं होता.. जय श्री राम

Loading...

About the author

Kumar

Leave a Comment