Uncategorized

सुप्रीम कोर्ट के तीन तलाक के फैसले पर दारुल उलूम ने सामने आकर दिया ये बड़ा बयान

Written by Nazia

यूपी के देवबंद स्थित मुस्लिम शिक्षण संस्थान दारूल उलूम ने कहा है कि तीन तलाक का मुद्दा कुरान और हदीस से जुड़ा हुआ है। शरीयत में कोई भी दखलअंदाज़ी बर्दाश्त नही की जाएगी। दारूल उलूम के मुताबिक, इस मामले में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड जो फैसला लेगा, वह उसके साथ है। वहीं, मेरठ के शहर काजी ने कहा कि कुरान और हदीस से अलग कोई कानून नहीं बनना चाहिए।वही दारुल उलूम देवबंद के मोहतमिम का कहना है कि इस मामले को लेकर वह मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के साथ है। जैसा बोर्ड तय करेगा उस पर ही दारुल उलूम समर्थन करेगा। शहर काजी प्रोफेसर जैनुस साजिद्दीन सिद्दीकी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को संसद में कानून बनाने के लिए कहा है। देशभर में उलेमाओं की जद्दोजहद रहेगी कि संसद में ऐसा कोई कानून न बनने पाए, जो कुरान और हदीस की रोशनी में न हो।

 

 

इस मामले में दारुल उलूम देवबंद के मोहतमिम मुफ्ती अबुल कासमी नौमानी के हवाले से प्रवक्ता अशरफ उस्मानी का कहना है कि अभी तक दारुल उलूम के पास सुप्रीम कोर्ट के फैसले की कोई कॉपी नहीं आई, लिहाजा इस मामले में कुछ भी बोलना न्यायसंगत नहीं होगा।

 

 

आपको बता दे कि, हमारे देश में इस मुद्दे को लेकर बहुत समय से चर्चा की जा रही है। कुछ राजनीतिक पार्टियाँ इसके जरिये से अपनी राजनीति की रोटियां भी सेंकने में लगे हुए हैं।

 

 

हालाँकि, इन मुद्दों को छोड़कर हमारे देश में सबसे जरुरी विकास का मुद्दा अहम मुद्दा होना चाहिए, लेकिन देश के अहम मुद्दों से भटकाने के लिए हमारी राजनीतिक पार्टियाँ गौरक्षा और ऐसे मुद्दों पर ज्यादा बहस करती हुई नजर आती हैं। हालाँकि, हमारे देश में अभी गोरखपुर और मुजफ्फरनगर में ऐसी भयंकर घटना हमारे सामने आई थी।

Loading...

About the author

Nazia

Leave a Comment