National News Political Uncategorized

न्यूयॉर्क टाइम्स ने किया खुलासा, कौन है आखिर मुसलमानों की हत्यायों का जिम्मेदार?

Written by Nazia

बर्मा(म्यांमार) पिछले कई सालो से जारी हिंसा में हज़ारों मुसलमानों की हत्या हो चुकी है ये हत्याएं कुछ साल पहले शुरू हुई थी और उसके बाद मुसलमानों का वहां रहना नामुमकिन सा हो गया इन हत्याओं का ज़िम्मेदार आखिर कौन है ये सवाल अक्सर लोगो को पूछते हुए सुना जाता है दरअसल इनके पीछे एक बुद्धिष्ट धर्मगुरु का हाथ है जिसका नाम विराथू है ! ये धर्मांध मुसलमानों के खिलाफ हमेशा ज़हर उगलता है ! और इस को सरकारी संरक्षण हासिल है इसका खुलासा अमेरिकन मैगज़न न्यूयॉर्क टाइम्स ने किया था और इसके साथ उसने ये हैडिंग दी थी “फेस ऑफ़ बुद्धिस्ट टेरर” और उसके कवर पेज पर विराथू की तस्वीर छपी हुई थी …… आजकल मुसलमानों पर फिर से हमले शुरू हुए है मीडिया पर ख़बरें आ रही है की पिछले 3 से 4 दिनों में बर्मा की फ़ौज और पुलिस ने 3000 से ज्यादा मुस्लिम औरतो,बच्चो और बूढों का क़त्ल कर दिया है!

 

 

बस्तियों की बस्तियों को जला कर राख कर दिया गया है और लाखो लोगो को बेघर कर दिया गया है ! उन्हें जंगलो में पनाह लेने को मजबूर कर दिया गया है हजारो बर्मी मुसलमान नदियों और समुन्द्र के रास्ते बांग्लादेश,थाईलैंड और इंडोनेशिया जान बचाने के लिए भाग रहे है ! आपको बता दें की 300000 से भी ज्यादा बर्मी मुस्लिम बांग्लादेश में शरण लिए हुए है ! अगर हम भारत में मुस्लिमों के इतिहास की बात करें तो मणिशंकर अय्यर लेफ्ट फ्रंट द्वारा आयोजित प्रोग्राम ‘Stop Politics of Hate’ में बोल रहे थे जोकि इंदौर में चल रहा है. मणिशंकर ऐय्यर ने यह भी कहा की मुस्लिमों ने600 साल भारत में राज किया और सिर्फ प्यार बांटा, कभी हिंसा नहीं की !

 

 

बॉम्बे हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज जीबी कोलसे पाटिल ने कहा की हिन्दू धर्म सिर्फ नाम का है और इसमें कोई सच्चाई नहीं है!  उन्होंने ये भी कहा की भारत का सबसे बड़ा दुश्मन RSS है और उसे ख़त्म करके रहेंगे.जस्टिस कोलसे पाटिल लेफ्ट फ्रंट द्वारा आयोजित प्रोग्राम ‘Stop Politics of Hate’ में बोल रहे थे जोके इंदौर में था . मजाक की बात यह है की प्रोग्राम ‘Stop Politics of Hate’ था मगर वहां पर जस्टिस पाटिल और मणिशकंर ऐय्यर ने जमकर बोले RSS के खिलाफ 1…जस्टिस पाटिल ने कहा की हिंदुत्व सिर्फ नाम का है और ब्राह्मण ही देश के असली दुश्मन हैं !

Loading...

About the author

Nazia

Leave a Comment