National News Political

प्रधानमंत्री बनने का सपना था पर यहाँ पर आ कर रुक गई आडवानी की गाड़ी…

Written by Kumar

किसी जमाने में लाल कृष्ण आडवानी जी भाजपा के वरिष्ठ नेता थे, अटल जी के बाद प्रधानमंत्री बनने का सपना भी संजो कर बैठे थे, पर मोदीजी के आगे कहा टिकने वाले थे, आखिर 56 इंच की छाती होना सबके नसीब में थोड़े है !  फिलहाल अच्छी खबर यह है की आडवानी जी को एक महत्वपूर्ण पद से नावाज़ा गया है ! भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी फिर से लोकसभा की आचार समिति के अध्यक्ष बनाए गए हैं। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने उन्हें नामित किया है। उनके अलावा अन्य 14 सदस्यों को भी अगला कार्यकाल दिया गया है।

आचार समिति ही किसी सदस्य के अनैतिक आचरण से संबंधित हर शिकायत की जांच करती है। आचरण संबंधी मामलों में वह स्वत: संज्ञान लेते हुए जांच करने के लिए भी स्वतंत्र है। लोकसभा की विज्ञप्ति के अनुसार, इसके अलावा पी करुणाकरण सदन की बैठकों में सदस्यों की अनुपस्थित संबंधी समिति के अध्यक्ष बनाए गए हैं, जबकि रमेश पोखरियाल निशंक के हाथों में सरकारी आश्वासनों संबंधी समिति की कमान दी गई है।

चंद्रकांत बी खैरे को सभा पटल पर रखे गए पत्रों संबंधी समिति और दिलीप कुमार मनसुख लाल गांधी को अधीनस्थ विधान संबंधी समिति का फिर से अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। लोकसभा उपाध्यक्ष एम थंबीदुरई को प्राइवेट मेंबर्स बिल्स एंड रेजलूशन कमेटी का चेयरमैन नामित किया गया है। इसके अलावा स्थानीय क्षेत्र विकास योजना समिति का भी उन्हें फिर से अध्यक्ष बनाया गया है। अधूरे मन से ही सही अडवानी जी यह पद पा कर थोड़ी ख़ुशी तो मना ही रहे होंगे !

Loading...

About the author

Kumar

Leave a Comment